नारी शक्ति वंदन अधिनियम | Women’s Reservation Bill 2023 UPSC Hindi GK Question PDF

Women’s Reservation Bill 2023 – सितम्बर 2023 में संसद की विशेष सत्र के दौरान भारतीय संसद के दोनों सदन लोक सभा व राज्यसभा में ऐतिहासिक महिला आरक्षण विधेयक पारित किया गया| इस आर्टिकल में हम विभिन्न परीक्षाओं के दृष्टिकोण से महिला आरक्षण विधेयक 2023 (Women’s Reservation Bill 2023), इसका इतिहास व उससे सम्बंधित विभिन्न प्रश्नों को पढेंगे| अगर आप किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो इस आर्टिकल को पूरा जरुर पढ़िए|

Download PDF – चंद्रयान 3 मिशन GK

Parliament Special Session, 2023

  • वर्ष 2023 में भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी ने संविधान के अनुच्छेद 108 के तहत 18 से 22 सितम्बर तक के लिए संसद के विशेष सत्र को बुलाया|
  • 31 अगस्त 2023 को संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी ने संसद के विशेष सत्र की घोषणा की|
  • इस विशेष सत्र के दौरान संसद की कार्यवाही को पुराने संसद भवन से नई संसद भवन की बिल्डिंग में स्थानांतरित किया गया|

Women’s Reservation Bill 2023

  • संसद के विशेष सत्र के दौरान केन्द्रीय राज्य कानून व न्याय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने 19 सितम्बर 2023 को 128वाँ संविधान संशोधन विधेयक प्रस्तुत किया|
  • इस विधेयक को “नारी शक्ति वंदन विधेयक” या “महिला आरक्षण विधेयक 2023” नाम दिया गया|

निम्न सारणी में महिला आरक्षण विधेयक से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी को साझा किया गया है|

Women’s Reservation Bill 2023
विधेयक का नामनारी शक्ति वंदन विधेयक
विधेयक संख्या128वाँ संविधान संशोधन विधेयक
लोक सभा में प्रस्तुत19 सितम्बर 2023
किसने पेश कियाकेन्द्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल
लोकसभा में पारित20 सितम्बर 2023 (पक्ष में मत – 454)
राज्य सभा में पारित21 सितम्बर 2023 (पक्ष में मत – 214)
राष्ट्रपति के हस्ताक्षर29 सितम्बर 2023
लागू होने के बाद अधिनियम106वाँ संविधान संशोधन अधिनियम
शामिल अनुच्छेद330A, 332A व 339AA
मुख्य प्रावधानलोक सभा व राज्य की विधानसभाओं में 33% सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित
वैधता15 वर्ष
कब लागूनई जनगणना व परिसीमन प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद

Women’s Reservation Bill 2023 Lok Sabha

  • 20 सितम्बर 2023 को लोक सभा में महिला आरक्षण विधेयक, 2023 पर वोटिंग हुई|
  • लोक सभा में उपस्थित कुल 456 सांसदों में 454 ने पक्ष में तथा AIMIM के दो सांसदों ने विधेयक के विरोध में मत दिया|
  • इस प्रकार से 20 सितम्बर 2023 को महिला आरक्षण विधेयक, 2023 लोक सभा में पास हुआ|

Women’s Reservation Bill 2023 Rajya Sabha

  • 21 सितम्बर 2023 को राज्य सभा में महिला आरक्षण विधेयक, 2023 पर वोटिंग हुई|
  • राज्य सभा में उपस्थित कुल 214 सदस्यों में से सभी ने विधेयक के पक्ष में मत दिया|
  • इस प्रकार से 21 सितम्बर 2023 को महिला आरक्षण विधेयक, 2023 राज्य सभा में पास हुआ|
  • इस विधेयक के अधिनियम बनने के लिए संसद के विशेष बहुमत के साथ आधे राज्यों की विधानसभाओं के समर्थन की भी आवश्यकता होगी|
  • राज्यों के द्वारा पास किये जाने के बाद इसे राष्ट्रपति के पास भेजा जायेगा|
  • राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह विधेयक एक कानून बन जायेगा और 106वें संविधान संशोधन अधिनियम के तौर पर लागू होगा|

Features of Women’s Reservation Bill 2023

  • इस विधेयक के माध्यम से लोक सभा व राज्य की विधानसभाओं में 33% सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित होंगी|
  • लागू होने के बाद यह अधिनियम 15 वर्षों के लिए वैध होगा|
  • यह अधिनियम राज्य सभा व राज्य की विधानपरिषदों पर लागू नहीं होगा|
  • लोक सभा में महिलाओं के 33% आरक्षण के लिए संविधान में अनुच्छेद 330A व राज्य विधानसभाओं में आरक्षण के लिए अनुच्छेद 332A जोड़ा जायेगा|
  • राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की विधानसभा में आरक्षण के लिए अनुच्छेद 339AA जोड़ा जायेगा|
  • यह अधिनियम वर्ष 2024 के लोक सभा चुनाव में लागू नहीं होगा|
  • इस अधिनियम को नई जनगणना के प्रकाशित होने के बाद तथा उस जनगणना के आधार पर परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के पश्चात लागू किया जायेगा|

History of Women’s Reservation Bill

  • वर्ष 1992 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री PV नरसिम्हा राव द्वारा पंचायती राज संस्थाओं व नगरपालिकाओं में 73वें व 74वें संविधान संशोधन द्वारा महिलाओं के लिए 33% सीटें आरक्षित की गयी थी|
  • 12 सितम्बर 1996 को HD देवगौड़ा की सरकार द्वारा पहली बार महिला आरक्षण के लिए 81वाँ संविधान संशोधन विधेयक प्रस्तुत किया गया|
  • इस विधेयक को संयुक्त समिति के बाद भेजा गया, किन्तु बाद में लोकसभा के विघटन के साथ ही यह समाप्त हो गया|
  • महिला आरक्षण विधेयक को पारित कराने का सर्वाधिक प्रयास भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी जी ने किया था|
  • अंतिम बार वर्ष 2010 में मनमोहन सिंह की सरकार द्वारा यह विधेयक राज्यसभा में पास हुआ किन्तु कई दलों के विरोध के कारण लोक सभा में पास नहीं हो सका|

निम्न सारणी में महिला आरक्षण विधेयक के संसद में प्रस्तुत किये जाने सम्बंधित वर्ष व प्रधानमंत्री का नाम दिया गया|

क्र.सं.वर्षप्रधानमंत्री
पहली बार12 सितम्बर 1996HD देवगौड़ा
दूसरी बार13 जुलाई 1998अटल बिहारी बाजपेयी
तीसरी बार14 जुलाई 1998अटल बिहारी बाजपेयी
चौथी बार11 दिसंबर 1998अटल बिहारी बाजपेयी
पांचवी बार23 दिसंबर 1998अटल बिहारी बाजपेयी
छठी बार2000अटल बिहारी बाजपेयी
सातवीं बार2002अटल बिहारी बाजपेयी
आठवीं बार2003अटल बिहारी बाजपेयी
नौवीं बार2008मनमोहन सिंह
दसवीं बार2010मनमोहन सिंह

लोकसभा में महिलाओं का प्रतिनिधित्व

  • वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में कुल 543 में से मात्र 78 महिला सांसद चुनकर संसद पहुंची थी|
  • एक तिहाई आरक्षण के उपरांत कुल महिलाओं के लिए कुल आरक्षित सीटों की संख्या 181 हो जाएगी|

Women’s Reservation Bill 2023 GK Questions

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक 2023 का अन्य नाम क्या है?

उत्तर – महिला आरक्षण विधेयक 2023 को नारी शक्ति वंदन विधेयक के नाम से भी जाना जाता है|

प्रश्न – किस संविधान संशोधन विधेयक के माध्यम से महिला आरक्षण विधेयक 2023 प्रस्तुत किया गया?

उत्तर – 128वें संविधान संशोधन विधेयक 2023 के माध्यम से महिला आरक्षण विधेयक प्रस्तुत किया गया|

प्रश्न – किस केन्द्रीय मंत्री ने लोक सभा में महिला आरक्षण विधेयक 2023 प्रस्तुत किया गया?

उत्तर – केन्द्रीय राज्य कानून व न्याय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने 19 सितम्बर 2023 को नारी शक्ति वंदन अधिनियम लोक सभा में पेश किया|

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक 2023 लोक सभा द्वारा कब अधिनियमित किया गया?

उत्तर – महिला आरक्षण विधेयक 2023 लोक सभा द्वारा 20 सितम्बर 2023 को अधिनियमित किया गया|

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक 2023 राज्य सभा द्वारा कब अधिनियमित किया गया?

उत्तर – महिला आरक्षण विधेयक 2023 राज्य सभा द्वारा 21 सितम्बर 2023 को अधिनियमित किया गया|

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक लागू होने के पश्चात कितने वर्ष के लिए वैध होगा?

उत्तर – महिला आरक्षण विधेयक लागू होने के पश्चात 15 वर्षों के लिए वैध होगा|

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक 2023 का मुख्य प्रावधान क्या है?

उत्तर – महिला आरक्षण विधेयक 2023 के माध्यम से लोक सभा व राज्य की विधानसभाओं में 33% सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित होंगी|

प्रश्न – महिला आरक्षण अधिनियम कब लागू होगा?

उत्तर – यह अधिनियम वर्ष 2024 के लोक सभा चुनाव में लागू नहीं होगा| इस अधिनियम को नई जनगणना के प्रकाशित होने के बाद तथा उस जनगणना के आधार पर परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के पश्चात लागू किया जायेगा|

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक 2023 के द्वारा संविधान में किस अनुच्छेद को जोड़ा जायेगा?

उत्तर – महिला आरक्षण विधेयक 2023 के द्वारा भारतीय संविधान में 3 नए अनुच्छेद 330A, 332A व 339AA जोड़े जायेंगे|

प्रश्न – महिला आरक्षण विधेयक 2023 को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कब अनुमति प्रदान किया?

उत्तर – 29 सितम्बर 2023 को भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने महिला आरक्षण विधेयक 2023 को सहमति प्रदान किया|

इस आर्टिकल में हमने विभिन्न परीक्षाओं के दृष्टिकोण से महिला आरक्षण विधेयक 2023 (Women’s Reservation Bill 2023), इसका इतिहास व उससे सम्बंधित विभिन्न प्रश्नों को पढ़ लिया है| आशा करते हैं कि यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा, इसे दोस्तों के साथ साझा जरुर कीजिये|

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment